Friday, 2 November 2012

यह वही 1977 वाली जनता पार्टी है जिसने मैमूना बेगम (इंदिरा गाँधी) की जमानत जब्त करके कांग्रेस का सफाया करा दिया था

---------- अग्रेषित संदेश ----------
प्रेषक: MahanDeshBharat


तो यह वही 1977 वाली जनता पार्टी है जिसने मैमूना बेगम (इंदिरा गाँधी) की जमानत जब्त करके कांग्रेस का सफाया करा दिया था और भारत में पहली राष्ट्रवादी सरकार बनी थी..


जी हां, "जनता पार्टी का यही निशाँन – कंधे पर हल धरे किसान" यह नारा गावो के बुजुर्गो से दोहराने पर उनके चहरे पर आशा की मुस्कान आप अवश्य देखेंगे क्योकि यह भारत की पहली सरकार थे जिसने की किसानो के हितों की बात शुरू की थी और वह पार्टी आज भी इसी नाम से इसी उद्देश्य से जिस आदमी ने ज़िंदा रखा हुआ है उसका नाम है- डॉ.सुब्रमनीयन स्वामी.


जिस हिन्दुवादी नेता डॉ.सुब्रमनियन स्वामी को कांग्रेस अपने बिकी हुई मिडिया से यही प्रचार कराया की स्वामी जी कुछ भी कहते रहते हैं, फसबुक और नेट आने के बाद पता चला की कांग्रेस किसी भी व्यक्ति के बारे कैसे दुष्प्रचार कराके उसकी जनता में विशासनियता कम करवाती है जिससे जनता को मुर्ख बनाया जा सके. डॉ.स्वामी जिस प्रकार से भारत के महा-डकैती के काग्रेस् के  कारनामो को उजागर करके उसे अदालत में ले जाते हैं, भारत में ऐसा कोई भी नहीं कर सक रहा है, न बीजेपी के लोग न अन्ना-केजरी का गिरोह...


मोदी और बाबा रामदेव जी के साथ मिलकर हिन्दुवादी लोगो के अगुआ बनने में डॉ.स्वामी की कामयाबी का असली फायदा अगले लोकसभा चुनावो में भारत को मिलेगा क्योकि जिसे कुछ नहीं चाहिए वही इस महान देश को विश्वगुरु बनाने में सहायक हो पायेगा अन्यथा कांगेस तो  सबका असली-नकली वीडियो बनाकर कब की ब्लैक्मेल हो रहे लोगो की जमात में खड़ी कर देती है और वह चाहते हुए भी देश के लिए कुछ भी नहीं कर पाता है. सही भी है- इस देश के लिए वही कुछ कर पायेगा जो ब्लैकमेल न हो रहा हो......


कांग्रेस के लोग जो भले ही अपनी बीबियो से ज्यादा दूसरे की बीबियो को प्यार करने का सगुन करते हो, इन हरामखोरो ने देश से कभी प्यार नहीं किया ; नेहरू के ही ज़माने से इस देश को धोखा के सिवा कुछ नहीं दिया. नेहरु – इंदिरा अपने को ब्राह्मण बताते बताते मर गए जब ये कही से भी हिंदू नहीं थे और आज के दिन हिंदू –विरोधी कानूनों और हिन्दुओ की दुर्दशा के लिए यही नकली ब्राह्मण जिम्मेदार हैं,

डॉ.स्वामी ने सनातन हिंदुत्व को देश ही नहीं सुदूर विदेशो में भी स्थापित किया और आज के दिन हो रहे हिन्दुओ के ध्रुवीकरण में डॉ.स्वामी का बहुत बड़ा हाथ है या कहिये की डॉ.स्वामी की छवि एक सच्चे हिंदू नेता की बन चुकी है और वह हिंदू युवाओ के हीरो बन गए हैं.


आज जहा पर मोदी को भारत की राजनीतिक शक्ति के रूप में देखा जा रहा है, बाबा रामदेव जी को अध्यात्मिक शक्ति का केंद्र के रूप में देखा जा रहा है, वही डॉ.स्वामी को भारत के सबसे तेज तर्रार कूटनीतिज्ञ के रूप में सिद्धि प्राप्त है जिसका उपयोग सबसे बढ़िया तरीके तब हो सकता है जब भारत को एक राष्ट्रवादी सरकार चलाकर अपने को विश्व में श्रेष्ठ साबित करना पड़े यानी भारत का भविष्य उज्जवल है.


किसी भी हालत में बाबा – मोदी- स्वामी की ताकत पर आंच न आने दे.

जय माँ भारती..