Thursday, 28 November 2013

फेसबुक पर दिवाली इस्पेशल मेसेज


दिवाली इस्पेशल
--
Wikipedia के अनुसार, भारतीय लोग मात्र में एक दिन में 3,182,000 बेरल इस्तेमाल करते है ।
ये पूरा होता है पूरा का पूरा 505897573 लीटर , बोले तो 50 करोड लीटर !
हाँ जी, हम भारतीय लोग 50 करोड लीटर पेट्रोल फूँक डालते है । अब क्या आप जानते है, इसके कारण कितना सारा प्रदूषण होता है ? सोचे कितना सारा धुँअा निकलता होगा ??

अब सेकुलर लोगो को ये प्रदुषण तो दिखेगा ही नही ? उनको तो दीवाली में प्रदुषण दिखेगा ,
सेकुलर लोगो को नये साल के पटाखो का प्रदूषण तो दिखेगा ही नही ?? उनको तो दिवाली में प्रदूषण दिखेगा !!
सेकुलर लोगो को बकरीद पर मुँह में दही जम जाता है लेकिन होली में प्रदूषण जरूर दिखेगा ।

जब बकरीद पर गाय बकरी काटने पर रोक लग जायेगी तब मै दिवाली पर पटाखे फोडना बंद कर दूँगा ।
तब तक मै तो खूब पटाखे फोडूँगा ।
========================


दिपावली में पटाखे जरूर फोडे ।

उसका कारण ये है कि -
-----------------
हिंदूओ के बच्चो के पास एक मात्र यही तो त्योहार है जहाँ से वो बहादुर बन सके । आप डिस्कवरी पर देखे की कैसे सभी प्रकार की जन जातियाँ और आदिवादी लोग , बच्चो को मर्द लोग के लिये अजीब अजीब से कष्टदायी धार्मिक अनुस्ठान करते है । खतरो से खेलने से बच्चो के मन में बहादुरी आती है वरना आप शहर के उन हिंदू बच्चो को देखे जो शुरू से ही जो "अच्छे बच्चे" की बनने के चक्कर मे धूल में ना खेले, लडाई ना की और पटाखे ना फोडे और ४ साल की उमर से ही उँगली से मोटा चश्मा पहने रहते है ऐसे बच्चे सामान्य कुत्ते से लेकर छोटे से कीडे को देखकर रोना आ जाता है, पटाखे फोडने पर पसीना आ जाता है, और आवाज की धमक से परेशान हो जाते है ।

खैर फैसला आपका की आप अपने बच्चे को भीरू बनाना चाहते है या व्यवहारिक ?

============================


दीपावली के दिन की अधूरी शुभकामनायें !!

अधूरी इसलिये क्योंकि दीपावली का दिन तो राम और लक्ष्मी का दिन होता है, और राम जन्म दिन भूमी में राम की मूर्ती तंबू में है, और लक्ष्मी जी स्वीस बैंक में ।

वैसे भी अब भारत के लोग दीपावली की जगह अब "LED Festival" मनाते है । भारत को जगमग करने का ठेका चीन के ले लिया है जिसके कारण हर साल अरबो खरबो रूपये चले जाते है चीन को और चीन वाले "धीन चाक धीन चाक" करते है और भारत वालो को समझ में नही आता है की आखिर पैसे की वैल्यू क्युँ गिर रही है ।

 
-------------------------
ऐसे बच्चे कभी आत्मरक्षा कर पायेंगे उन लोगो से जो बचपन से तमंचो से खेलते है ? या फिर जान बचाने के खातिर देश भी गद्दारी कर देंगे ??



========================


मीडीया -- ये देखो, ये त्योहार के नाम पर पैसे की बर्बादी कर रहे है -- ब्रेकिंग न्युज
फेसबुकिया - भाई टाईम बडा या पैसा ??
मीडीया -- टाईम
फेसबुकिया - तो भाई, क्रिकेट मैच के दौरान करोडो लोगो को कितना सारा टाईम बर्बाद हो जाता है ?
मीडीया -- तुम्हारे पीछे RSS का हाथ है !! ----%$#%#$#$%$&


--
┌─────────────────────────┐
│  नरेन्द्र सिसोदिया
│  स्वदेशी प्रचारक, नई दिल्ली
│  http://narendrasisodiya.com
└─────────────────────────┘