Friday, 8 August 2014

त्रीसूत्रीय माँग में लिये भारत में बहुत बडे आंदोलन की आवाश्यकता है

हम भारत को भारतीयता के आधार पर खडा करना चाहते है ।
 
इस राजनीती से भारत बदल सकता है या नही ये देखने के लिये हमको तीन माँगें रखनी चाहिये ।

ये है तीन माँगे ।
१) एक देश एक नाम - इंडिया शब्द को अाधिकारीक तौर पर पूर्ण बहिस्कार, केवल और केवल भारत शब्द का उपयोग ।
२) शराबबंदी - भारत से पूर्ण रूप से शराब बंद, जो घाटा हो होने दो, भाड में जाये राजस्व और भाड में जाये शराब से पैसे के राजस्व से किया गया विकास
३) गौहत्या बंदी - भारत में चल रहे गौवंश (गाय - बैल आदि) के सारे कतलखानो को पूरी तरह से बंद और गौहत्या को कानूनन जघन्य अपराध घोषित किया जाये ।
 

अगर हम इन तीन बातों को मोदी सरकार से मनवा लेते है तो सही है, लेकिन अगर पूर्ण बहुमत वाली मोदी सरकार नही मानती है तो समझ लिजिये दूसरा कोई प्रधानमंत्री ये काम नही कर सकता है और नाही हमारी माँगो का रास्ता राजनीती से जाता है ।
ना मानने की स्तिथि में हमारे पास मात्र ३ ही विकल्प ही बच जाते है ।
१) हिंसक क्रांति से भारत की पूरी व्यवस्था को फिर से नये रूप से प्रारंभ करना और नया संविधान लिखना जो भी भारतीयता और भारतीय संस्कृती के आधार से लिखा गया हो ।
२) भारतीयता को हमेशा के लिये भूल कर अपनी संतानो को वर्ण शंकर या फिर पूर्ण रूपेण अंग्रेज बना कर पूरी तरह से विदेशी संस्कृती को अपना ले
३) भारत के किसी छोटे हिस्से को नया देश घोषित किया और वहाँ हम भारतीयता और भारतीय संस्कृती को जीवीत करें



--


Narendra Sisodiya
UI Architect @
Unicommerce
Delhi - Bharat (India)